हमराही

ऐ हमराही 

मेरी बिछड़ी राहो के 
कभी – उन राहो पे 
वापस गुज़र के देख 
जहाँ मेरे कदमो से 
तुने- कभी 
कदम मिले थे
from my coolection
sudheer maurya ;sudheer’
Advertisements